पश्चिमी सेक्टर पश्चिमी सेक्टर

                पुलिस महानिरीक्षक का संदेश           

                  

                      केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल की स्थापना 27 जुलाई सन 1939 को नीमच (मध्य प्रदेश) में क्राउन रिप्रजेंटेटिव पुलिस के रूप में हुई। केरिपुबल को देश में आंतरिक सुरक्षा का दायित्व दिया गया है, जिसके अंतर्गत विविध प्रकार की चुनौतियाँ हैं, जैसे कि पूर्वोत्तर में विद्रोही तत्वों से मुकाबला, जम्मू व काश्मीर में आतंकवादियों से भिडंत, मध्य भारत में वामपंथी उग्रवादियों से निपटना एवं पूरे देश में साम्प्रदायिक सद्भाव को बनाए रखना।

                        पश्चिमी सेक्टर मुख्यालय, केरिपुबल, महाराष्ट्र, गुजरात, गोवा दमन-दीव, दादर एवं नगर हवेली में बल की तैनाती का पर्यवेक्षण करता है। केरिपुबल की यूनिटें महाराष्ट्र व गुजरात राज्य में कानून एवं व्यवस्था की स्थिती को बनाए रखने के लिए तैनात है। ये अल्प सूचना पर साम्प्रदायिकता, दंगा भड़कने, भीड़ नियंत्रण, चुनाव, धार्मिक मेला जैसे- कुंभ, गणपति त्यौहार आदि से निपटने में राज्य सरकार की सहायता के लिए सदैव तैयार रहती हैं। पूर्व में 26/11 को मुम्बई में हुए हमले से निपटने में एवं प्राकृतिक आपदा के दौरान बचाव व राहत कार्य में केरिपुबल ने प्रशंसनीय कार्य किया है।

                        महानिरीक्षक, केरिपुबल, पश्चिमी सेक्टर को महानिदेशालय, केरिपुबल, नई दिल्ली द्वारा गोवा विधान सभा चुनाव-2017 (दिनांक 04/02/2017) का बल समन्यवक  [Force Co-ordinator]    नियुक्त किया गया था। विभिन्न राज्य बलों व केन्द्रीय बलों का आगमन राज्य प्रशासन से समन्वय कर उनके रहने, खाने-पीने व तैनाती सुनिश्चित करते हुए स्वच्छ, स्वतंत्र, निष्पक्ष व भयमुक्त चुनाव संपन्न करने का महत्वपूर्ण दायित्व था एवं सेक्टर द्वारा सभी जिम्मेदारियेां का निर्वाह पूरी कुशलता एवं निपुणता के साथ किया गया तथा चुनाव सफलतापूर्वक संपन्न हुआ।

                        इस सेक्टर में एक पारदर्शी एवं समानुभूति प्रशासन सुनिश्चित किया जा रहा हैं। एक समुचित शिकायत निवारण प्रणाली स्थापित की गई है। यह सेक्टर संगठन और राष्ट्र को एक नई ऊॅचाई की तरफ ले जाने के लिए प्रयासरत है।

Go to Navigation