उपलब्धियां उपलब्धियां

   
उपलब्धियां:-

          भारत में आंतरिक सुरक्षा के लिए अनेकों चुनौतियां विधमान है। हमले की हद और स्कोप जटिल, विविध और विशाल है। दुनिया में कोई भी अन्य देश इतने सारे खतरों के काफी तीव्रता के साथ एक ही समय में सामना नहीं कर रहे है। कुल मिलाकर, भारत में 50 प्रतिशत से अधिक आबादी एक या इससे ज्यादा खतरों से प्रभावित है जो कि सिर्फ कानून और व्यवस्था से संबंधित नही है। वो अपने बाहरी आयाम द्वारा पारंपरिक ज्ञान को बढ़ा रहे है जिससे आंतरिक सुरक्षा के खतरों के रुप में आंतरिक स्त्रोत मुख्य वजह है।

          केन्द्र सरकार द्वारा केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल को मुख्य रुप से आंतरिक सुरक्षा संभालने की जिम्मेदारी प्रदान की है। वर्तमान में केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल देश के सभी राज्यों में राज्य पुलिस और नागरिक प्रशासन को विशेष सहायता प्रदान करने के लिए तैनात है। केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल, कानून और व्यवस्था, सांप्रदायिक सद्भाव व शांति बनाये रखने के साथ ही प्राकृतिक आपदाओं के समय भी मदद करता है इसके अतिरिक्त उग्रवाद, आंतकवाद व राष्ट्रीय सुरक्षा के एसे सभी मुद्दों, जो कि बड़ी संघर्षो की समस्या के माध्यम से आता है, में भी मदद करता है।

          उपरोक्त पूर्ववर्ती पैरा में दर्शाये अनुसार विभिन्न आंतरिक सुरक्षा की समस्याओं को दूर करने के लिए यह तत्काल आवश्यक है कि सभी सुरक्षा बल आपसी समन्वय एवं सहयोग के साथ परिस्थिति से मुकाबला करे। उक्त परिस्थिति में, आंतरिक सुरक्षा प्रबंधन और नवीनतम प्रौधोगिकी, उपकरण और विज्ञान का उपयोग और महत्वपूर्ण हो जाता है। केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल को आन्तरिक सुरक्षा की समस्याओं और देश को अस्थिर और सामाजिक अस्मिता को दूषित करने से रोकने  हेतु विशेष जिम्मेदारी प्रदान की गई है। सौपीं गई जिम्मेदारी और केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल को वर्तमान में बदली हुई भूमिका के मध्यनजर नई चुनौतियों से निपटने के लेए अपने अधिकारियों को तैयार करने के लिए प्रशिक्षण और महत्वपूर्ण हो जाता है। आंतरिक सुरक्षा अकादमी को आंतरिक सुरक्षा से संबंधित विषयों के प्रशिक्षण कार्यकलाप में उत्कृट भूमिका होने के कारण अप्रैल 2002 में "उत्कृष्टता केन्द्र” से नवाजा गया ।

          आन्तरिक सुरक्षा केन्द्र लगातार पदोन्नति पूर्व प्रशिक्षण और सेवा के दौरान प्रशिक्षण कोर्स को चला रहा है और आन्तरिक सुरक्षा और वर्टिकल कोर्स सी.के.पी.एफ., राज्य पुलिस एवं सशस्त्र पुलिस आदि बलों के लिए सफलतापूर्वक संचालन कर रहा है।

 2017 में, आ.सु.अ. ने दिनांक  30/09/2017 तक  33 पाठ्यक्रम संचालित किए और विभिन्न बलों  के 889प्रतिभागियों को प्रशिक्षित किया।

          

Go to Navigation